एसआरएफ़ ऑनलाइन ध्यान केंद्र के बारे में

"आत्मसाक्षात्कार का अर्थ यह जानना है कि हम शरीर, मन एवं आत्मा में ईश्वर की सर्वव्यापकता के साथ एक हैं ...।"

—परमहंस योगानन्द

Self-Realization Fellowship

सन 1920 से, सेल्फ़-रियलाइज़ेशन फ़ेलोशिप (एसआरएफ़) अपने संस्थापक परमहंस योगानन्द, जो पूरे विश्व में "पश्चिम में योग के जनक" के रूप में प्रतिष्ठित हैं, के आध्यात्मिक और लोकोपकारी कार्यों को आगे बढ़ाने के लिए समर्पित है।

एसआरएफ़ एक विश्वव्यापी आध्यात्मिक संगठन है जिसका अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय लॉस एंजेलेस में स्थित है। यह परमहंस योगानंद की सार्वभौमिक, असांप्रदायिक शिक्षाओं का स्रोत है। यह संस्था हमारे वैश्विक परिवार के विविध लोगों और धर्मों के बीच अधिक समझ और सद्भावना को बढ़ावा देने का प्रयास करता है, और सभी संस्कृतियों और राष्ट्रों के लोगों को अपने जीवन में मानव आत्मा के सौंदर्य, कुलीनता और दिव्यता को और अधिक महसूस करने और व्यक्त करने में सहायता करता है।

सेल्फ़-रियलाइज़ेशन फ़ेलोशिप की प्रमुख गतिविधियों में एक है - पूरी दुनिया में मंदिरों, ध्यान केंद्रों और ध्यान मण्डलियों का निर्माण और उनका निर्देशन। वर्तमान में छह महाद्वीपों पर 800 से अधिक ऐसे केंद्र हैं, जहां अनेकों साधक परमहंस योगानंद द्वारा सिखाए गए ध्यान-योग के अभ्यास के लिए एकत्र होते हैं। (भारत और उसके आसपास के देशों में ध्यान केंद्रों और उनकी गतिविधियों का संचालन हमारी भगिनी संस्था, योगदा सत्संग सोसाइटी ऑफ इंडिया द्वारा किया जाता है।

परमहंस योगानंद-

ऑनलाइन ध्यान केंद्र के बारे में

यह सेल्फ़-रियलाइज़ेशन फे़लोशिप ऑनलाइन ध्यान केंद्र सेल्फ़-रियलाइज़ेशन फे़लोशिप का एक आधिकारिक केंद्र है। अक्टूबर 2019 में एसआरएफ़ के अध्यक्ष पूजनीय स्वामी चिदानंद जी ने इस केंद्र का उद्घाटन किया था। इस का डिज़ाइन, निर्माण और रखरखाव योगानंद सेवा द्वारा किया जाता है जो एसआरएफ़ के गृहस्थ भक्तों की एक मंडली है जिनकी उदारता और समर्पण की भावना से यह सब कुछ संभव हो सका है। सभी एसआरएफ़ ध्यान केंद्रों और मंडलियों की तरह, यह ऑनलाइन केंद्र भी हमारे अंतर्राष्ट्रीय मुख्यालय के केंद्र विभाग के संन्यासियों द्वारा निर्देशित किया जाता है।

नीचे दी गई फोटो में ऑनलाइन ध्यान केंद्र के प्रारंभिक दिनों के दौरान हुई एक वीडियो कांफ्रेंस में उपस्थित योगानंद सेवा के कुछ स्वयंसेवक और कर्मचारी दिख रहे हैं।